यह लड़का नौकरी छोड़कर, बिजनेस से कमा रहा हैं 10 लाख रूपये हर महीने

Jayaguru Hinder Success Story : हमारे आज के समय में पशुपालन का यह कारोबार बहुत ही ज्यादा पुराना हो चुका हुआ है. आजकल बहुत सारे लोग दूध के साथ साथ उससे बने हुए जाने वाली कहीं सारे प्रोडेक्टस से ही पैसा कमा रहे हैं. पर आज के समय में ऐसे ही एक शख्स ने केवल सिर्फ यह पशुपालन के ही बिजनेस को काफी बढ़िया तरीके से शुरू करके अब इसके द्वारा हर महीने में लाखों रुपयों तक कमा चुका हैं.

आज के समय बहुत सारे लोग अपनी नौकरी छूटने जाने के बाद, बिलकुल पुरी तरह से वह बहुत ज्याद तनाव में रह जाते हैं और फिर उसके साथ साथ वह अपनी हिम्मत भी हारते हैं. लकिन यही पर हम आपको एक ऐसे शख्स के बारे में बताने वाले हे जो अपने दिल की बात सुनकर, अपनी नौकरी को छोड़कर आज एक समय में वह एक बहुत बड़ा बिजनेसमैन बन चुका हुआ है.

सिर्फ 26 साल के जयगुरु आचार हिंडर के बारें में ही हम आप सभी को यह बात बता रहे हैं, वह सिविल इंजीनियर की नौकरी यह एक प्राइवेट कंपनी में करता था. लेकिन फिर कुछ ही समय के बाद उन्होंने मात्र सिर्फ गाय के गोबर के अलावा दूध के साथ एक खुद का नया बिजनेस ही खड़ा कर दिया. हिंडर जो पानी से नहलाए जाने वाले गायों को और उसके निलकनेवाले गोशाला को भी बेच कर उससे ही वह बहुत सारे पैसा भी कमा रहे हैं. अपने उस नौकरी को छोड़कर उन्होंने सिर्फ इसी काम में अपनी बहुत ज्यादा जान लगा दी. इसी बिजनेस के चलते हुए हिंडर आज के समय में बहुत ज्यादा से ज्यादा मुनाफा भी कमा चुका हुआ हैं.

Jayaguru Hinder Success Story

Business की शुरुआत कैसे हुई

दक्षिण कन्नड़ जिले के पुत्तूर तालुक के मुंडुरु गांव के रहने वाले है यह जयगुरु आचार हिंडर. जिन्होंने इंजीनियरिंग के इस क्षेत्र में विवेकानंद कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी, पुत्तूर से ही ग्रेजुशन करके अपनी डिग्री भी हासिल की. फिर कुछ ही समय के बाद उन्हें एक प्राइवेट कंपनी में नौकरी मिले जिसकी बदौलत वह हर महीने 22000 रुपये कमाने लगे थे. लेकिन आगे जाकर उन्हें इस प्राइवेट कंपनी में बिलकुल भी काम करने का मन नहीं हुआ. इनको यह खेती का काम करना बचपन से ही बहुत ज्यादा पसंद था. और उनके पास अपने घर पर 10 गाय भी थे. क्योंकि इन पशुओं के साथ अपना समय बिताकर रहने की हिंडल की बचपन से ही यह आदत भी थी.

इन्होने क्यों छोड़ दी अपनी नौकरी

हिंडर को नौकरी करने में बिलकुल भी मन नहीं होता था. तब इसी के चलते हुए ठीक 2 साल पहले ही 2019 में अपनी यह नौकरी छोड़कर, उन्होंने अपने पिता के साथ रहकर खेती का काम करना ही शुरू कर दिया. अपने इस इनकम को किस तरह से बढ़ाया जाए, इसके उन्होंने बहुत सारे रास्ते भी निकालने शुरू किए. आखिर में इंटरनेट पर बहुत सारे वीडियोज देख देख कर हिंडर ने अचानक से पटियाला में जाने का फैसला लिया. फिर कुछ ही समय के बाद उन्हें एक मशीन खरीदने का आइडिया उनके दिमाग में आ गया. गोबर को सुखाने के लिए यह एक मशीन थी. अब इसी मशीन की मदत से वो इस सूखे हुए गोबर के 100 थैलियां बनाकर बेचने लगे और हर महीने इसी की बदौलत वो बहुत ज्यादा पैसे कमाने भी लगे हैं.

जैविक खाद का निर्यात कैसे करते थे

हिंडर ने इसके साथ साथ गाय के इस गोबर का घोल बनाकर भी बेचन शुरू कर दिया. फिर उसमें गोबर, गाय मूत्र और गायों को नहलाने को किया गया हुआ बेकार पानी भी शामिल होता था. वह टेंकरों की मदद से ही इस घोल को पूरी तरह से सप्लाई करते थे. जबकि इनके पास अपना एक टैंकर भी था. तो हर रोज हिंडर अपने इसी एक टैंकर में घोल सप्लाई कर पा रहे थे. उसीसे 11 रुपये तक की प्रति लीटर पर उनकी अच्छी से कमाई भी होने लगी. खेतों में होने वाले जैविक खाद का काम ही यह घोल करते रहते थे.

Business से कितनी होती है इनकी कमाई

जब हिंडर अपनी पढ़ाई करते थे, तब उसी दौरान वो डेयरी और इसके उत्पादन को किस तरह से बढ़ाया जा सके, इसके बारे में बहुत सारे तरीके भी ढूँढ़ते रहते थे. अब 130 की संख्या में पशु हिंडर के पास हैं. हर महीने वह हर रोज 750 लीटर दूध के साथ साथ 30 से 40 लीटर तक के घी भी बेच रहें हैं. अपना यह सारा कारोबार पुरे 10 एकड़ में फैले उनके फार्महाउस में ही करते रहते हैं. इसकी बदौलत वो हर महीने 10 लाख रुपये तक कमा रहे है. अब वो दूध के जरिए बनने वाले प्रोडेक्ट बनाने वाली यूनिट को भी इसमें लगाना चाहते हैं.

यह भी पढ़े: भारत में Asus का लॉन्च हुआ कम कीमत और अच्छे फीचर वाला Laptop

दोस्तों अगर आपको यह Jayaguru Hinder Success Story अच्छी लगी हो तो जरूर अपने दोस्तों के साथ शेअर करे.

Leave a Comment