पत्नी की मदत से पति ने खड़ी की 50000 करोड़ की कंपनी!

Sanjeev Bikhchandani Success Story : दोस्तों अगर लक्ष्य को सामने रखकर चल पड़े तो सफलता के पास हम जरूर पहुँचते हैं। भारत देश में कई ऐसे बिजनेस मैन है जो बहुत कठिनाइयों का सामना करकर बहुत बड़ा मुकाम हासिल किया हैं। आज के वक्त में भारत में कॉरपोरेट सेक्टर हैं. कई बिजनेस मैन ने छोटे से शुरुआत करके बड़ा बिजनेस बना के दिखाया हैं। भारत में ऐसेही एक सबसे आमिर लोगों में शामिल अरबपति बिजनेसमैन है। जिनको उनके पत्नी ने काफी हौसला दिया इसके वजह आज वो 50000 करोड़ के कंपनी के मालिक हैं।

Sanjeev Bikhchandani Success Story

कौन है संजीव बिकचंदानी

दोस्तों आपने Naukri.Com और Jivansathi.Com इन वेबसाइटों के नाम तो सुने होंगे और इसे कई बार इस्तेमाल किये होंगे. इन वेबसाइटों को ऑपरेट करने वाली कंपनी का नाम है इन्फो एज इंडिया लिमिटेड (Info Edge India Ltd) इसके को-फाउंडर हैं संजीव बिकचंदानी ( Sanjeev Bikhchandani), जो देश के सबसे आमिर बिजनेस मैन की लिस्ट में शामिल हैं। यह नाम ऐसेही नहीं आया हैं इन्हों बहुत मुश्किलों का सामना किया हैं, इन्होंने मेहनत और दृढ़ आत्मविश्वास के दम पर आज संजीव बिकचंदानी एक सफल बिजनेस मैन बने हैं।

IIM से पढ़ाई कर के पहली नौकरी की शुरुआत की

संजीव बिकचंदानी भारत में अपने कंपनी के जरिए जरुरत मंद लोगों को अच्छी नौकरी देते हैं। और आपको जीवनसाथी ढूंढ़ने के लिए भी कंपनी का अहम् रोल हैं. और संजीव बिकचंदानी की सफलता के पीछे इनके जीवनसाथी का बहुत ही बड़ा अहम रोल है. अगर पत्नी पति के साथ मिलकर बिजनेस में खड़ी हैं तो आदमी कुछ भी हासिल कर सकता हैं। उनकी पत्नी सुरभि ने भी इस आईआईएम अहमदाबाद (IIM Ahamdabad) से पढ़ाई की है। फोर्ब्स के मुताबिक, IIM से पढ़ाई पूरी करने के बाद संजीव बिकचंदानी ने 1989 में पहली नौकरी ग्लैक्सोस्मिथक्लाइन (Glaxosmithkline) के साथ शुरू की, लेकिन एक साल बाद ही नौकरी के बजाय कुछ अपना नया बिजनेस करने का फैसला किया।

1990 में Glaxosmithkline की नौकरी छोड़कर बिजनेस की शुरुआत

दोस्तों नौकरी छोड़कर बिजनेस करना इतना आसान नहीं होता है लेकिन उनके मन में फिक्स हुआ था बिजनेस ही करना हैं तब उनकी पत्नी सुरभि ने उन्हें हौसला दिया और खुद नौकरी करने लगी और पति को बिजनेस की शुरुआत करने के लिए प्रेरित किया। फिर 1990 में संजीव बिकचंदानीने इन्फो एज (इंडिया) की शुरुआत की, लेकिन सेकेंड हैंड कम्प्यूटर का इस्तेमाल करके कंपनी का काम चलाते रहे।

इन्फो एज (इंडिया) कंपनी कैसे मिली सफलता

1990 में कंपनी की शुरुआती सालों में उन्हें कंपनी चलाने के लिए कई कठिनाईओं का सामना करना पड़ा. तब, खुद की कंपनी शुरू तो हो चुकी थी, पैसा काम पड़ रहा था। उसी समय में उनकी पत्नी सुरभि की सैलरी से संजीव बिकचंदानी को जो मदद की जरूरत थी वो मदद मिली, फिर मेहनत करके 1997 में उन्होंने जॉब पोर्टल Naukri.com की शुरुआत की। इस पोर्टल से उनको ऐसी सफलता मिली की उन्होंने पीछे मुड़कर देखा ही नहीं। फिर उनको ऐसे सेक्टर के बारे में बहुत दिलचस्पी लगने लगी।

पहली जॉब पोर्टल Naukri.com सफल होने के बाद 2004 में उन्होंने Jeevasathi.com पोर्टल लॉन्च किया फिर वो भी पोर्टल पुरे देशभर में अच्छा चलने लगा, फिर वो ऐसेही नहीं बैठे उन्होंने फिर दिमाग लगाकर एक साल बाद 2005 में ही Real Estate सेक्टर से संबंधित पोर्टल 99acres.com को लॉन्च कर दिया। इस पोर्टल से संजीव बिकचंदानी को बहुत फायदा मिला। फिर साल 2008 में उन्होंने Education Sector में भी पाव रखा और shiksha.com नामक वेब पोर्टल शुरू कर दिया। यह पोर्टल से भी संजीव बिकचंदानी को बहुत फायदा मिलेगा लगा।

कई कंपनियों में किया बड़ा इन्वेस्टमेंट

संजीव बिकचंदानी के तीनों वेब पोर्टल पर बड़ी सफलता मिलने पर इस बिजनेस को आगे बढ़ाने का सोच लिया। फिर इसके बाद संजीव बिकचंदानी ने जोमैटो और पॉलिसीबाजार में निवेश किया। इसके वजह से कंपनी Info Edge (India) Limited करीब 58,000 करोड़ के मार्केट कैपिटलाइजेशन वाली कंपनी बनी हैं और पिछले 5 साल में कंपनी के शेयर ने अपने निवेशकों को 177 फीसदी से ज्यादा का रिटर्न दिया है।

संजीव बिकचंदानी की संपत्ति कितनी हैं ?

Info Edge India Ltd के को-फाउंडर संजीव बिकचंदानी का नाम देश के बड़े अरबपतियों में शामिल हैं और फोर्ब्स के रियल टाइम बिलेनियर्स इंडेक्स (Forbes Real Time Billionaires Index) के मुताबिक, उनकी कुल नेटवर्थ 2.3 अरब डॉलर या करीब 19,000 करोड़ रुपये से ज्यादा है।

यह भी पढ़े: 9 बार फेल होने के बाद भी इस शख्श ने खड़ी की 1.5 लाख करोड़ की कंपनी

दोस्तों अगर आपको Sanjeev Bikhchandani Success Story अच्छी लगी हो तो जरूर अपने दोस्तों के साथ शेअर करें.

Leave a Comment