पैरों में दर्द के लिए घरेलू आयुर्वेदिक उपचार

पैर दर्द की वजह कहीं ये तो नहीं, पैरों में दर्द एक ऐसी आम समस्या है, जिसे अमूनन सब अनदेखा करते हैं. किन वजहों से पैरों में होता है दर्द और कैसे उससे पाएं छुटकारा ( heel pain remedies, home remedies for heel pain, heel pain treatment home remedies, heel pain treatment, heel pain treatment at home ), जानते हैं.

आजमाएं ये उपाय ( heel pain remedies )

१) तलवे की नीचे एक मुलायम बॉल रखें और उसे तलवे की मदद से धीरे-धीरे आगे पीछे करें.

२) गुनगुने पानी में पैरों को कुछ देर डुबोकर रखें. ज्यादा गर्म ने लें, इससे दर्द बढ़ जाएगा. फुटवियर की क्वालिटी और आकार से समझौता न करें.

३) अगर दर्द लगातार रहता है तो विशेषज्ञ की मदद लें. पैरों के लिए कस्टमाइज्ड फुट कुशन बनवाएं. इससे पैरों पर शरीर का वजन संतुलित तरीके से पड़ेगा.

४) बर्फ वाले पानी या बर्फ से पैरों की सिंकाई करें. बर्फ की सिंकाई से पैरों में सूजन व दर्द में आराम मिलता है.

टहलने को व्यायाम का सबसे आसान और प्रभावी तरीका माना जाता है. यह सच भी है, लेकिन अगर जब एक कदम बढ़ना भी आपके लिए मुश्किल हो जाए तो?

महिलाओं को पैरों में दर्द की समस्या

अमेरिकन आर्थोपेडिक फुट एंड एंकल सोसाइटी के मुताबिक लगभग ८० प्रतिशत महिलाओं को पैरों में दर्द की समस्या होती है. वहीँ पुरुषों में भी ये आम है. गठिया या ऑस्टियोपोरोसिस के अलावा भी दर्द के कई कारण होते हैं.

heel pain remedies

heel pain remedies

१) एक जूता, कई इस्तेमाल : फिटनेस से जुड़ी विभिन्न गतविधियों के लिए अलग -अलग तरह के जूते होते हैं,जो उसी फिटनेस की गतिविधि को ध्यान में रखकर तैयार किए जाते हैं. अपने व्यायाम की प्रकृति के अनुरूप ही जूतों का चुनाव करना चाहिए. एक ही तरह के जूते सब गतिविधियों में इस्तेमाल करना दर्द का कारण बन सकता है.

२) प्लान्टर फेशियाइटिश : प्लान्टर फेशियाइटिश ऊतकों का एक समूह होता है, जो हमारी एड़ी को पैर की सभी उंगलियों से जोड़ने का काम करता है.यह तलवे के घुमावदार हिस्से को सहारा देता है. एक तरह से वह शरीर के भार को सहन करने का काम करता है. जब पैरों के दस हिस्से पर बहुत ज्यादा दबाव पड़ता है तो वो कमजोर हो जाता है या फिर उसमें सूजन आ जाती है.

हड्डियों को मजबूत बनाने के घरेलू उपाय

प्लान्टर फेशियाइटिश ( heel pain remedies )

इस स्थिति में चलने और यहां तक कि खड़े होने पर भी पैरों में दर्द होता है. प्लान्टर फेशियाइटिश एड़ियों में दर्द का आम कारण होता है. भारत में हर साल इस बीमारी के एक करोड़ से ज्यादा मामले सामने आते हैं. अमूमन यह परेशानी अधेड़ उम्र के लोगों को होती है, पर कई बार ऐसे युवा भी प्लान्टर फेशियाइटिश के शिकार हो जाते हैं.

जो ज्यादातर खड़े रहते हैं.कभी दोनों तो कभी-कभी एक पैर में भी यह परेशानी हो जाती है. प्लान्टर फेशियाइटिश की परेशानी उन लोगों को ज्यादा होती है, जिन्हें फ्लैट फुट की समस्या होती है यानी जिनके तलवे सपाट होते हैं. ज्यादा वजन वालों में भी इसकी समस्या अधिक होती है.

३) गलत फुटवियर पहनना : अगर आप सालों से एक ही साइज के फुटवियर पहन रहे हैं तो यह सही नहीं. प्रेग्रेंसी व बढ़ती उम्र के साथ पैरों का आकार बदलता रहता है. फुटवियर खरीदते समय पैरों का आकार नापकर ही जूते लें.

फुटवियर की खरीदारी के लिए हमेशा सुबह की जगह दोपहर या शाम को जाएं. दोपहर में पैरों में हल्की सूजन आ जाती है. ऐसे में वह पैरों में तंग रहेगा.

वजन बढ़ाना ( एड़ी दर्द के उपचार )

४) वजन बढ़ाना : अगर खानपान और नियमित व्यायाम पर ध्यान न दिया तो धीरे-धीरे वजन कब बढ़ जाता है, पता ही नहीं चलता.यह बढ़ा हुआ वजन पैरों के दर्द कारण बन सकता है. पैर पुरे शरीर का वजन उठाते हैं.

अगर वजन लंबाई के अनुपात में ज्यादा हो तो पैरों पर ज्यादा दबाव पड़ता है और उनमें दर्द होने लगता है. गर्भावस्था के दौरान भी पैरों पर ज्यादा बल पड़ने से उसमें नियमित दर्द रहता है.

५) आराम नहीं फैशन को तरजीह देना : फैशनेबल दिखने की चाहत में पैरों की सेहत से समझौता करना ठीक नहीं. एक साथ लंबे समय तक ऊंची एड़ी के जूते पहनने से बचें, पतले व कड़े सोल वाले जूते ना पहनें.

सामने की ओर से नुकीला फुटवियर पहनने से पैर की उंगलियों पर ज्यादा दबाव पड़ता है,जिससे तलवे या पैर की हड्डियों में गांठ पड़ सकती है. पैर की नसों में सूजन हो सकती है. यहां तक की पैर की उंगलियों का आकार भी बिगड़ सकता है.

Free Download HeloPlus App

Leave a Reply