वास्तुदोष के कारण आदमी हो जाता है कंगाल

घर में वास्तुदोष के कारण कमाया हुआ धन पानी की तरह बह जाता है और आदमी कंगाल हो जाता है

कंगाल बना देगा जल से जुड़ा यह दोष आपको

हमारे यहां जल को लक्ष्मी का प्रतीक माना गया है. यदि आपके घरों में नलों से पानी टपकता है और पाईप लाइन से लीकेज है तो यह आर्थिक नुकसान का संकेत देता है.

वास्तु के नियम के अनुसार नल से पानी का टपकना आपके एकत्र किए गए धन को धीरे-धीरे खर्च होने का संकेत करता है. इस दोष के कारण महालक्ष्मी रूठ जाती हैं ऐसा माना जाता है.

किस जगह पर हो किचन?

धन की बरकत के लिए रसोई के वास्तु पर विशेष ध्यान देना चाहिए. यदि आपके घर में रसोईघर पश्चिम दिशा में है, तो धन तो खूब आएगा लेकिन बरकत नहीं होगी. इस दिशा में रसोई होने से जातक के पास जैसे ही पैसा आता है, वैसे ही खर्च हो जाता है.

वास्तुदोष के कारण आदमी हो जाता है कंगाल
वास्तुदोष के कारण आदमी हो जाता है कंगाल

किस दिशा में हो सीढ़ियां?

वास्तु शास्त्र में सीढ़ियों का विशेष महत्व है. भवन के दक्षिण-पश्चिम यानि कि नैऋत्य कोण में पृथ्वी तत्व की प्रधानता होती है, अतः यहां सीढ़ियां बनाने से इस दिशा का भार बढ़ जाता है, जो वास्तु की दृष्टि में बहुत शुभ माना जाता है.

इसलिए इस दिशा में सीढ़ियों का निर्माण सर्वश्रेष्ठ माना गया है. इससे धन-संपत्ति में वृद्धि होती है और स्वास्थ्य अच्छा रहता है. इसलिए सीढ़ियां दक्षिण-पश्चिम यानि कि नैऋत्य कोण में होनी चाहिए.

दरवाजे से दूर होगी दरिद्रता

वास्तु के अनुसार घर का मुख्य द्वार का धन से गहरा संबंध होता है. इससे जुड़े वास्तुदोष धन हानि के कारक होते हैं. यदि किसी घर का मुख्य द्वार दक्षिण दिशा में हो तो हमेशा आर्थिक परेशानियां घेरे रहती हैं.

इसी तरह यदि घर का मुख्य द्वार टूटा हुआ हो या फिर पूरी तरह से ना खुलता हो, तो इस वास्तुदोष से भी धनहानि होती है. ऐसे में इस सुख समृद्धि को बढ़ाने और दरिद्रता को दूर करने के लिए जल्द से जल्द टूटे दरवाजे की मरम्मत करना चाहिए या बदलवा देना चाहिए.

किस दिशा में रखें पानी की टंकी?

घर में पानी का टैंक बनवाते या रखते समय दिशा का विशेष रूप से ध्यान रखना चाहिए. पानी को टैंक को दक्षिण पश्चिम दिशा अर्थात् नैऋत्य कोण में होना शुभता प्रदान करता है. घर की छत पर इस दिशा में पानी की टंकी रखने से अन्य भागों की अपेक्षा यह भाग ऊंचा और भारी हो जाता है, जो कि सुख-समृद्धि और उन्नति का कारक बनती है.

सही दिशा में टैंक रखने से सुख-समृद्धि में विस्तार होता है तो वहीं गलत दिशा में टैंक रखने या बनवाने से बने वास्तु दोष से तमाम तरह की परेशानियां पैदा होती हैं. घर में कलह, तनाव बढ़ता है और बच्चों का पढ़ाई में मन नहीं लगता है.

Leave a Reply