मंदिर में जाने से दूर रहते हैं रोग- जानें पांच वैज्ञानिक फायदे

हममें से ऐसे कई लोग हैं जो दिन की शुरुआत पूजा-पाठ से करते हैं. भले ही व्यस्त जीवनशैली के चलते लोग मंदिर न जा पाते हों लेकिन लगभग सभी के घरों में भगवान का एक छोटा-सा मंदिर जरूर होता है. घरों में मंदिर होना एक तरह की सकारात्मकता ऊर्जा का संचार करता है लेकिन मंदिर जाने के सिर्फ आध्यात्मिक लाभ ही नहीं बल्कि वैज्ञानिक दृष्टिकोण से आपके स्वास्थ के लिए भी बहुत अच्छा है. आपको जानकर हैरानी होगी कि मंदिर जाने से कई फायदे होते हैं.

१) ब्लड प्रेशर पर असर : मंदिर के अंदर नंगे पैर जाने से यहां की सकारात्मक ऊर्जा (पॉजिटिव एनर्जी) पैरों के जरिए हमारी बॉडी में प्रवेश करती है. नंगे पैर चलने के कारण पैरों में मौजूद प्रेशर पॉइंट्स पर दबाव भी पड़ता है, जिससे हाई ब्लड प्रेशर की प्रॉब्लम कंट्रोल होती है.

मंदिर में जाने से दूर रहते हैं रोग- जानें पांच वैज्ञानिक फायदे
मंदिर में जाने से दूर रहते हैं रोग- जानें पांच वैज्ञानिक फायदे

२) एकाग्रता बढती है: मंदिर जाने से ही नहीं बल्कि चंदन का तिलक माथे पर लगाने से दिमाग शांत होता है क्योंकि चंदन में शीलता होती है मंदिर में चंदन का तिलक लगाकर कुछ देर आँख बंद करके मौन बैठने से एकाग्रता शक्ति बढ़ती है.

३) ऊर्जा का स्तर ऊँचा होता है : रिसर्च कहती है, जब हम मंदिर का घंटा बजाते हैं, तो ७ सेकंड तक हमारे कानों में उसकी आवाज गूंजती है. इस दौरान बॉडी में सुकून पहुँचाने वाले ७ पॉइंट एक्टिव हो जाते हैं. इससे एनर्जी लेवल बढ़ाने में हेल्प मिलती है.

४) तनाव मुक्ति के लिए : मंदिर का शांत माहौल और शंख की आवाज मानसिक तौर पर हमें शांत और सुकून पहुंचाता है. इससे तनाव दूर होता है.

५) बेहतर नींद आना : मंदिर जाने से रात में मन शांत रहता है. साथ ही दिमाग में व्यर्थ के विचार नहीं आते जिससे मन शांत रहता है और नींद बेहतर आती है.

Leave a Reply