परफेक्ट जोड़ी बनने के लिए कुछ ऐसा करें!

परफेक्ट जोड़ी बनने के लिए कुछ ऐसा करें!

जीवनसाथी के साथ अच्छा वक्त बिताने के बाद ऐसा लगता है कि हमसे बेहतर जोड़ी किसी और की नहीं है, पर छोटी सी लड़ाई हो तो एक-दूसरे में बदलाव देखने की इच्छा होने लगती है. पर यकीन मानिए, कुछ जोड़ियां होती हैं शानदार. कुछ ऐसी आदतें, अहसास और भावनाएं होती हैं, जो इन जोड़ियों को बेस्ट बनाए रखती हैं.

सबसे अच्छा जोड़ा कहलाने की तमन्ना दिल में है तो वो कीजिए, जो बेस्ट कपल किया करते हैं. यकीन मानिए, ख़राब से ख़राब स्थिति के बाद भी आपका एक-दूसरे के लिए प्यार और सम्मान बरक़रार रहेगा.

ईमानदारी अपनाकर रखें
यह फंडा हर रिश्ते पर इस्तेमाल किया जा सकता है. बदले में भरपूर प्यार और हमेशा का साथ जरूर मिलेगा. पर ईमानदारी का पैमाना आपको तय करना होगा. जैसे आप ऑफिस से लेट क्यों आई, जैसी छोटी बात, तो पार्टनर के व्यवहार में क्या कमी है, जैसी बड़ी बातें भी आपको बिना लाग-लपेट के उनके सामने रखनी होंगी. साथ ही शर्त यह भी होगी कि पार्टनर भी आपसे उतना ही ईमानदार रहे.

जरुरत बस मौकों की
रिश्ते की मजबूती के लिए पैसे को हाथ का मैल मान लेने में ही समझदारी है. अपनी जिंदगी में कई ऐसे मौकों को हम पैसे कमाने या ज्यादा न खर्चने के लिए यों ही बर्बाद कर देते हैं. जबकि इन सबका ध्यान रखते हुए भी कई पलों को जिया जा सकता है. जैसे- एक कप कॉफ़ी पर मिलना या बाइक पर लॉन्ग राइड के लिए जाना या आईसक्रीम पार्लर में ठंडी-ठंडी आईसक्रीम के मजे लेना. इतने भर से भी आप रिश्ते को तरोताजा कर सकती हैं.

परफेक्ट जोड़ी बनने के लिए कुछ ऐसा करें!
परफेक्ट जोड़ी बनने के लिए कुछ ऐसा करें!

ख़ास दिनों का इंतजार छोड़ दें
उनका जन्मदिन आएगा तो पसंदीदा ब्रांड की टी-शर्ट गिफ्ट करूंगी. आज क्यों नहीं? जी हां, पार्टनर को ख़ास महसूस कराने के लिए मौकों का इंतजार छोड़ दीजिए. यकीन मानिए पार्टनर आपकी इस अदा को बहुत पसंद करेगा. सामने वाले को पता चलेगा कि वह आपके लिए कितना जरुरी है.

पब्लिक सब जानती है
आपके रिश्ते के बारे में लोग ऐसा न कहें तो अच्छा है, क्योंकि पार्टनर की गलतियों को दुनिया के सामने जाहिर करना अच्छी आदत नहीं है. मजाक में भी अपने पार्टनर की गलतियां लोगों के सामने न लाएं. ऐसा करना आपकी और आपके रिश्ते की छवि ख़राब ही करता है. लोगों के बीच पार्टनर की कमियां उजागर करना बहुत ख़राब आदत होती है. इस स्थिति में आपका पार्टनर अकेला महसूस कर सकता है.

बन जाएं खुली किताब
एक शब्द है, पारदर्शिता इस एक शब्द की आपकी जिंदगी में बहुत अहमियत होनी चाहिए. आज आपने यह गलती कर दी या आज आपने खुद में यह सुधार किया. छोटा या बड़ा ऐसा हर एक मुददा आपको अपने पार्टनर से बताने का साहस होना चाहिए. पारदर्शिता कुछ ऐसी होनी चाहिए कि पार्टनर को किसी भी मुददे पर तीसरे इंसान पर नहीं, बल्कि सिर्फ आप पर विश्वास हो.

जहां कोई और न हो
आपके पास ऐसा समय होना चाहिए, जो सिर्फ आप और आपके पार्टनर के लिए हो. एक-दूसरे के लिए समय निकालना कितना जरुरी है, इसकी अहमियत स्थितियां ज्यादा ख़राब होने के बाद पता चलती है.

Leave a Reply