आपके मस्तक पर लिखा है आपकी उम्र का राज

मस्तक रेखाओं के आधार पर भी जातक की आयु का निर्धारण किया जा सकता है. जातक के ललाट की स्थिति, आकार-प्रकार, रंग तथा चिकनाई का विशेष ध्यान रखना चाहिए. शुभ ललाट प्रत्येक रेखा में 25% आयु की वृद्धि करता है तथा अशुभ ललाट उतने ही प्रतिशत आयु कम करता है.

मस्तक पर दो पूर्ण रेखाएं हो तो जातक की आयु लगभग 60 वर्ष होती है.

सामान्य मस्तक पर तीन शुभ रेखाएं हो तो जातक करीब 75 वर्ष की आयु प्राप्त करता है. यदि मस्तक श्रेष्ठ हो तो जातक की उम्र और भी और भी अधिक होती है.

आपके मस्तक पर लिखा है आपकी उम्र का राज
आपके मस्तक पर लिखा है आपकी उम्र का राज

निम्न ललाट पर भी शुभ गुणों से युक्त चार रेखाएं हों तो जातक की आयु लगभग 75 वर्ष होती है.

सामान्य मस्तक पर पांच उत्तम रेखाएं हों तो ऐसे जातक सौ वर्ष तक सुख भोगते हैं.

यदि उन्नत मस्तक पर पांच से अधिक रेखाएं हों तो जातक की आयु मध्यम और यदि मस्तक निम्न श्रेणी का हो तो जातक अल्पायु होता है.

मस्तक की किन्हीं दो रेखाओं के किनारे आपस में एक-दूसरे का स्पर्श करते हैं तो ऐसे जातक की आयु करीब 60 वर्ष होती है.

मस्तक पर यदि कोई रेखा न हो तो जातक को 25 से 40 वर्ष की आयु में पीड़ा देता है.

Leave a Reply